Aphorisms of Chanakya Sutra 451 to 571 (Only English and Hindi Translation)

Aphorism 451

The land where water is easily available is better for agriculture.

वह भूमि जंहा पानी प्रचुर मात्र में उपलब्ध है खेती के लिए अच्छी है.

Aphorism 452

One should not cause anger to a giant elephant by using petty castor.

किसी भी शुद्र वास्तु का प्रयोग करके एक महाकाय हाथी को क्रोधित ना करे.

Aphorism 453

A bondage of an elephant should be compatible with it’s strength.

हाथी का बंधन उसकी ताकत के अनुरूप होना चाहिए.

Aphorism 454

A kanher can’t be used as a beater irrespective of it’s length and thickness.

कान्हेर यदि मोटा और लम्बा भी है तो भी मुसल का काम नहीं कर सकता.

Aphorism 455

A firefly can’t be used for creating fire whatever may be it’s shine.

एक जुगनू कितना भी चमके उससे आग नहीं मिल सकती.

Aphorism 456

If someone flourishes in some areas that doesn’t mean that he has virtue or dedication.

यदि किसीकी किसी क्षेत्र में उन्नति होती है तो यह आवश्यक नहीं की उसके पास गुण और समर्पण है.

Aphorism 457

A very old bark of a neem tree can’t be used for making a knife. An evil remains useless irrespective of how old he grows.

एक पुराने नीम के पेड़ की छाल भी चाकू बनाने के काम नहीं आ सकती. दुष्ट किसी भी काम का नहीं रहता वह कितनी भी उम्र का क्यों न हो जाए.

Aphorism 458

One reaps what he sows.

हमें वही मिलेगा जो हमने बोया है.

Aphorism 459

One’s intellect is conditioned by one’s learning.

व्यक्ति की बुद्धि वह जो विद्या ग्रहण करता है उसके अनुरूप ढलती है.

Aphorism 460

One’s conduct is the reflection of one’s family.

हमारा व्यहवार हमारे कुल की ओर संकेत करता है.

Aphorism 461

A neem tree won’t become a mango tree irrespective of applying jaggery all over. Whatever discourse etc a bad person recieves he sticks to his meanness.

एक नीम का वृक्ष उसपर गुड छिड़कने से भी आम का नहीं हो जाता. एक बुरा आदमी उसे चाहे जो सीख दे दो बुराई नहीं छोड़ता.

Aphorism 462

A certain little is better than an uncertain plenty.

एक निश्चित थोडा एक अनिश्चित बहोत से बेहतर है.

Aphorism 463

One himself is the cause of one’s misery and not others.

व्यक्ति स्वयं ही उसके दुःख का कारण है, दुसरे नहीं.

Aphorism 464

One should not travel in dark.

हम अँधेरे में कही ना जाये.

Aphorism 465

One should not go to sleep past mid-night.

आधी रात ढल जाने के बाद नींद के लिए सोना उचित नहीं. उससे पहले ही सो जाए.

Aphorism 466

When should one sleep, get up, eat, start journey all these things should be learnt from elders in the family or the intelligent people having experience.

हम कब सोये, उठे, खाए, सफ़र पर जाए ये सब बाते बुजुर्गो से सीख ले. या किसी अनुभवी अकलमंद आदमी से सीख ले.

Aphorism 467

One should not enter someone’s house without necessary approval or reason.

किसी दुसरे के घर में बिना अधिकार या कारण के नहीं जाना चाहिए.

Aphorism 468

People understand well by their intellect that they are not doing a good work. Still they don’t desist from doing wrong.

लोग अपनी बुद्धि से समझ जाते है की वे कोई सही काम नहीं कर रहे. लेकिन वो गलत काम करने से बाज नहीं आते.

Aphorism 469

Whatever custom people follow have been developed on the basis of scriptures.

लोग जो प्रथा निभाते है वो शास्त्रों के आधार पर ही बनी है.

Aphorism 470

One should follow what good people do if one is not able to understand scriptures.

हमें यदि शास्त्र वचन नहीं समझता है तो अच्छे लोगो का अनुकरण करे.

Aphorism 471

A scripture is not more significant than good conduct.

सदाचार से शास्त्र बड़ा नहीं है.

Aphorism 472

A King knows far away developments as if he is watching everything with his eyes on the basis of information received from his spies.

राजा को बहुत दूर क्या हो रहा है पता चलता है. मानो उसकी आँख से ही दिखता है. अपने जासूसों से प्राप्त जानकारी के आधार पर वह यह कर सकता है.

Aphorism 473

Common people have herd mentality.

सामान्य लोगो में भेड़ो की चाल चलने की आदत होती है.

Aphorism 474

One should never despise one’s means of livelihood.

व्यक्ति अपनी उपजीविका के साधन की घृणा ना करे.

Aphorism 475

The ultimate fruit of austerities is sense restraint.

तप का अंतिम फल इन्द्रिय निग्रह है.

Aphorism 476

It needs a high level of will power and austerities when one is enticed by sexual pleasures.

आदमी को तपोबल ही यौन सुख की तृष्णा से बचा सकता है.

Aphorism 477

Sexual passions leads to evil outcomes.

वासना का परिणाम अशुभ होता है.

Aphorism 478 – 479

One should not approach sex for deriving pleasures but for discharging one’s responsibilities.

स्त्री पुरुष सम्बन्ध हीन आनंद पाने के लिए नहीं जिम्मेदारी को निभाने के लिए हो.

Aphorism 480

Those who work for social good should rise above sensual pleasures.

जिन्हें समाज का भला करना है वे शारीर सुख से ऊपर उठे.

Aphorism 481

He is the knower of Vedas who knows the outcome of his austerities.

जिसे अपने तप का फल पता है वह वेदों को जाननेवाला है.

Aphorism 482

There is no permanent place for anyone in heaven. One enjoys stay in heaven as long as one’s stock of merit is not exhausted.

स्वर्ग में किसीके लिए स्थायी जगह नहीं. सिर्फ तब तक स्वर्ग में रह सकता है जब तक पुण्य ख़तम नहीं हो जाते.

स्वर्गस्थानम न शाश्वतं.

Aphorism 483

There is no grief for a common man greater than losing physical comforts and happiness.

एक सामान्य आदमी के लिए शारीर के आराम और सुख को खोने से बड़ा कोई दुःख नहीं.

Aphorism 484

A person has so much attachment with his body that he won’t agree to lose that even if he is offered status of Indra.

आदमी को अपने शारीर से जबरदस्त आसक्ति होती है. यदि उसे कहा जाए की शरीर के बदले इंद्र पद ले लो तो वह मना कर दे.

Aphorism 485

Salvation is the only remedy for all unhappiness.

मुक्ति ही सभी दुखो की दवा है.

Aphorism 486

A noble person as an enemy is better than an ignoble person as a friend.

एक दुष्ट का मित्र होने से एक सज्जन का शत्रु होना अच्छा.

Aphorism 487

Our family loses glory if we speak bad words.

यदि हम बुरे वचन कहते है तो घर का मान घटता है.

Aphorism 488

In all worldly happiness birth of son is the highest.

दुनिया की सभी खुशीयों में पुत्र जन्म सर्वश्रेष्ठ है.

Aphorism 489

Don’t forget righteousness when you are in conflicts. One should abide by righteousness when conflicts arise.

आप सदाचार ना भूले जब आप विवादों में है. जब भी विवाद हो सदाचार से जुड़े रहे.

Aphorism 490

One should plan all day’s work after rising early in the morning.

हम ब्रह्म मुहूर्त में उठकर दिनभर के कामो की योजना बनाये.

Aphorism 491 and 492

He whose doom is not far away doesn’t abide by good conduct.

जिसका विनाश निकट है वह सदाचार का पालन नहीं करता.

Aphorism 493

One who is in need of milk should not keep an elephant.

जिसे दूध चाहिए वह हाथी ना पाले.

Aphorism 494

If you want to win over people do charity to them.

यदि आप लोगो को जीतना चाहते हो तो उनका भला करो.

Aphorism 495

One should not be impatient one wants to get something from others.

यदि आपको दुसरो से कुछ चाहिए तो धीरज ना खोये.

Aphorism 496

If you earn something by foul means that can’t be used for something good.

यदि आप गलत मार्ग से कुछ पाते है तो उसका सदुपयोग नहीं कर सकते.

Aphorism 497

Only a crow can eat a bitter fruit.

एक कौवा ही एक कड़वा फल खा सकता है.

Aphorism 498

One should not think that a huge wealth will be of great use. Whether water of a great ocean can be used for drinking purpose.

आप को ऐसा नहीं समझना चाहिए की अपार संपत्ति आपके बहोत काम आएगी. क्या अपार समुद्र का पानी किसीको पिने के काम आता है.

Aphorism 499

As a grain of sand maintains it’s hardness and distinct identity a vile person maintains his ego and doesn’t mix with people.

एक बालू का कण जैसे सख्त और बिलग बना रहता है, वैसे ही दुष्ट व्यक्ति अपने अहंकार को बनाये रखता है और लोगो से घुल मिल नहीं जाता.

Aphorism 500

Good people don’t mix much with vile people.

अच्छे लोग दुष्टों के साथ बहोत ज्यादा नहीं मिलते है.

Aphorism 501

A swan is never comfortable in a crematorium. Similarly good people don’t like company of vile.

एक हंस स्मशान में सुखपूर्वक नहीं रह सकता. उसीतरह अच्छे लोग दुष्टों की संगती पसंद नहीं करते.

Aphorism 502

The whole world is engaged in action to make money.

पूरी दुनिया पैसा बनाने के लिए काम करती है.

Aphorism 503

Those who don’t have discretion think that their desires should be fulfilled anyhow. They don’t care about their duties and lose patience.

जिन्हें विवेक नहीं होता उन्हें लगता है की उनकी इच्छा कुछ भी करके पूरी हो जाए. उन्हें अपने कर्त्तव्य का ध्यान नहीं रहता और वे धैर्य खो देते है.

Aphorism 504

Those who are ruled by desires are devoid of wealth.

जो वासना के अधीन होते है उनके पास कोई सम्पदा नहीं होती.

Aphorism 505

Those ruled by desires don’t have patience backed by stability of mind.

जो वासना के अधीन होते है उनके पास मन की स्थिरता नहीं होती और उससे मिलने वाला धीरज भी नहीं होता.

Aphorism 506

It is better to die than to live a deprived life.

एक निर्धन का जीवन जीने से बेहतर है की मर जाए.

Aphorism 507

Desires destroy all diffidence and probity. Desires stoke the fire of greed.

वासना शर्म और निति को नष्ट करती है. वासना लोभ की अग्नि को भड़काती है.

Aphorism 508 509

One should not praise oneself.

व्यक्ति खुदकी प्रशंसा ना करे.

Aphorism 510

One should not sleep during the day.

दिन में ना सोये.

Aphorism 511

Those who are intoxicated by wealth don’t listen to good advice from competent well-wishers.

जिन्हें पैसे की मस्ती होती है वो लोग अधिकारी शुभ-चिंतको की सलाह नहीं मानते.

Aphorism 512

A good woman regards her husband as most pious and sacred.

एक अच्छी औरत पति को पुण्यात्मा मानती है.

Aphorism 513

If a woman supports her husband in righteousness that leads to happiness and prosperity of the whole family.

यदि पत्नी धर्म की राह पर पति का साथ दे तो घर को ख़ुशी और सम्पन्नता से भर सकती है.

Aphorism 514

One should respect guests coming all of a sudden and guests coming with a prior notice.

हम सभी मेहमानों का सम्मान करे, बिना बताये आने वाले और बता कर आने वाले.

Aphorism 515

A charity done to an eligible donee never goes in vain.

एक पात्र को जो दान दिया जाता है वो कभी व्यर्थ नहीं जाता.

Aphorism 516

If there arises any defect in the intelligence one considers one’s enemy as one’s friend.

जब आदमी की बुद्धि में छिद्र आता है तो अपने दुश्मन को अपना मित्र समझता है.

Aphorism 517

A mirage is not water. Sensual pleasure is not happiness.

मृग तृष्णा जल नहीं है. इन्द्रिय सुख सुख नहीं है.

Aphorism 518

Those who don’t have rigtheousness write fake books.

जिनमे सदाचार नहीं है वे सारहीन किताबे लिखते है.

Aphorism 519

An association with a saintly person gives heavenly pleasure.

संतो के संग से स्वर्ग सुख की प्राप्ति होती है.

Aphorism 520

Good people behave the way they ask others to behave.

सज्जन वैसा ही आचरण करते है जैसा दुसरो से कहते है.

Aphorism 521

Appearance is the reflection of one’s virtue.

हमारी प्रतीति हमारे गुणों का दर्पण है.

Aphorism 522

One should reside at a place where there are comforts.

उस जगह रहे जहा सुविधाए है.

Aphorism 523

There is no deliverance for a treacherous person.

एक दगाबाज आदमी की नरक से मुक्ति संभव नहीं.

Aphorism 524

One should not get worried for the things happening in the course of destiny.

जो भाग्य से हो गया उसके बारे में बहुत चिंता ना करे.

Aphorism 525

A good person considers problems faced by others as his own problems and takes efforts for solving their problems as he would have done for himself.

एक अच्छा व्यक्ति दुसरो की परेशानियों को अपनी परेशानी मानता है. उनकी परेशानियों से निपटने के लिए वो उतने ही कष्ट लेता है जितने खुदकी परेशानियों से निपटने के लिए.

Aphorism 526

Those who are evil will hide their meanness and will only speak sweet words.

जो दुष्ट है वे खुदकी नीचता छुपायेंगे और सिफ मीठा मीठा बोलेंगे.

Aphorism 527

A foolish person deserves hatred.

मुर्ख व्यक्ति घृणा का पात्र है.

Aphorism 528

One should not move without having necessary weapons to protect oneself.

हम जब चले तो आत्म सुरक्षा के लिए हथियार पास रखे.

Aphorism 529

One should never praise one’s child.

एक पिता अपने लड़के की प्रशंसा ना करे.

Aphorism 530

Servants talk about the goodness of their master amidst people to make him popular.

सेवकजन अपने स्वामी के शुभ कर्मो की लोगो में प्रशंसा करते है जिससे स्वामी प्रसिद्ध हो जाए.

Aphorism 531

Whenever dependent people do something good they attribute their work to their master.

जब भी परावलम्बी लोग कुछ अच्छा करते है तो स्वामी को श्रेय देते है.

Aphorism 532

One should not make unreasonable delay in executing the King’s commands.

राजा की आज्ञा का पालन करने में अकारण विलम्ब ना करे.

Aphorism 533

One should execute King’s commands to the best of one’s abilities.

राजा की आज्ञा का पालन अपनी योग्यता को पूर्ण इस्तेमाल करते हुए करे.

Aphorism 534

Those who are intelligent don’t have any enemies.

जो बुद्धिमान होते है उनके कोई शत्रु नहीं होते.

Aphorism 535

If you feel that some defect is about to set in your yourself you should not disclose it to others and try to rectify it.

यदि आप पाते है की आपके व्यक्तित्व में कुछ कमजोरी आ गयी है तो किसी को ना बताये और उसे दूर करे.

Aphorism 536

One who demonstrates forgiveness performs his work successfully.

जो क्षमाशील है वह अपना काम सफलता से करता है.

Aphorism 537

One should preserve some wealth for unforeseen contingencies.

आगे आने वाली विपदा के लिए कुछ धन का संचय करना चाहिए.

Aphorism 538

One should join those who are walking the path of truth.

उनके साथ चले जो सत्य की राह पर चल रहे है.

Aphorism 539

There is no need to postpone today’s work tomorrow.

आज के काम को कल पर ना टाले .

Aphorism 540

One should complete work to be done by noon in the morning itself.

जो काम दोपहरतक करना है उसे सुबह ही कर ले.

Aphorism 541

The righteousness should be practical.

सदाचार व्यवहार्य होना चाहिए. हमें सदाचार को व्यवहार में ढालते आना चाहिए.

Aphorism 542

One who understands people on the basis of one’s sharp intelligence should be considered as all knowing.

जिसे अपनी बुद्धि के बल पर लोगो को समझने की योग्यता है वह सर्वज्ञ है.

Aphorism 543

One who fails to understand people is a fool inspite of knowing scriptures.

जो लोगो को नहीं समझ सकता वह शास्त्रों का ज्ञाता होने के बावजूद भी मुर्ख है.

Aphorism 544

The knowledge of sriptures should enable one understand things here and in the next world.

शास्त्रों के अध्ययन से हमें इस जीवन को और अगले जीवन को समझने का ज्ञान मिलना चाहिए.

Aphorism 545

The power of discrimination that discerns good from bad illuminates the action.

वह विवेक जो अच्छे को बुरे से परखने की दृष्टी देता है कर्म को प्रकाशित करता है.

Aphorism 546

Don’t favour one at the cost of other.

पक्षपात न करे.

Aphorism 547

Performance ranks higher than righteousness.

व्यहवार धर्म से श्रेष्ठ है.

Aphorism 548

The soul is the witness of performance.

आत्मा व्यहवार को देखता है.

Aphorism 549

Soul is the witness for everything that happens.

आत्मा सबकुछ देखता है.

Aphorism 550

One should not be a false witness.

हम कही झूठे गवाह ना बन जाए.

Aphorism 551

Those who give false witness go to hell.

जो झूटे गवाह बनते है नरक को जाते है.

Aphorism 552

The five elements witness the sin that is commited in hiding.

पञ्च महाभूत उस पाप को देखते है जो छुपकर किया जाता है.

Aphorism 553

A sinner glows his own sin.

पापी अपने पाप को खुद प्रकाशित करता है.

Aphorism 554

A man’s appearance speaks for the things going on in his mind.

आदमी की प्रतीति उसके मन में जो हो रहा है कहती है.

Aphorism 555

It is impossible for anyone to prevent his face from speaking for his mind.

ऐसा नहीं होगा की चेहरा दिल की बात बयां ना कर पायेगा.

Aphorism 556

The rulers protect public money from thieves and people working for the rulers.

शासक जनता का धन चोरो से और शासको के लिए काम करने वालो से बचाते है.

Aphorism 557

If the rulers create a bad image of themselves they lead to ruin of people.

यदि शासक अपनी बुरी प्रतिमा बनाते है तो जनता का विनाश करते है.

Aphorism 558

The rulers who create a good image of themselves create happiness for their people.

शासक यदि अपनी अच्छी प्रतिमा बनाते है तो जनता के लिए सुख निर्माण करते है.

Aphorism 559

People consider the rulers with equity like their mother.

जो शासक न्याय प्रिय होते है उन्हें जनता माँ के रूप में देखती है.

Aphorism 560

A good ruler creates happiness in this world and gets heaven in the next world.

अच्छा शासक इस जीवन में सुख पाता है और अगले जीवन में स्वर्ग.

Aphorism 561

Non-violence is a mark of righteousness.

अहिंसा धर्म का प्रतीक है.

Aphorism 562

A good person takes same care of others that he takes of himself.

एक अच्छा आदमी दुसरो की उतनी ही चिंता करता है जितनी खुदकी.

Aphorism 563

Animals are in every way unfit for human consumption. Men should never eat non-veg.

प्राणी इंसान का भोजन नहीं है. मानव मांस ना खाए.

Aphorism 564

One who has the knowledge has no fear.

जिसे ज्ञान है उसे भय नही.

Aphorism 565

The lamp of knowledge puts an end to the fear of mundane existence.

ज्ञान का दिया भौतिक जीवन के भय को मिटाता है.

Aphorism 566

The material happiness and all it’s means are transient.

भौतिक सुख और उसके सभी माध्यम नश्वर है.

Aphorism 567

The body that is a place for germs, bacteria, stool and urine can work as a factor for earning merit or commiting sin.

वह देह जिसमे जीव, जंतु, मल, मूत्र है वही पाप या पुण्य निर्माण का साधन है.

Aphorism 568

The cycle of life and death is full of agony.

जीवन मृत्यु का चक्र दुखमय है.

Aphorism 569

One can attain heaven on the basis of his austerities.

तप के आधार पर स्वर्ग की प्राप्ति हो सकती है.

Aphorism 570

He who forgives furthers his austerities.

जो क्षमा करता है उसके तप की वृद्धि होती है.

Aphorism 571

Austerities lead to accomplishment of all work.

तप से हर काम साध्य होता है.

इसके साथ ही ग्रन्थ समाप्त हुआ. This ends the book.

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s