Aphorisms of Chanakya Sutra 252 to 350 (Only English and Hindi Translation)

Aphorism 252

You should not ignore your enemy if he seems to be indifferent in his retaliatory attack.

आपको अपने शत्रु को दुर्लक्षित नहीं करना चाहिए यदि आप को ऐसा लगता है की वह पलट वार करने में उत्सुक नहीं है.

Aphorism 253

A petty addiction may lead to one’s total destruction.

एक मामूली व्यसन भी आदमी को पूरी तरह बर्बाद कर सकता है.

Aphorism 254

A man thinks that he will live forever and he is always busy after things necessary for sustaining his life.

आदमी को ऐसा लगता है की वह अनंत काल तक जियेगा और वह हरदम जीवनावश्यक चीजे बटोरने के पीछे लगा रहता है.

Aphorism 255

One who is wealthy commands respect on the basis of one’s wealth.

जो व्यक्ति धनवान है वह अपने धन के बदौलत सम्मान हासिल करता है.

Aphorism 256

Even if the Indra, The King of Heaven loses wealth he won’t be respected anymore.

यदि स्वर्ग का राजा इंद्र भी संपत्ति खो देता है तो सम्मान नहीं पायेगा.

Aphorism 257

Poverty makes a living man a corpse.

गरीबी इंसान को एक जीती जगती लाश बना देती है.

Aphorism 258

One who is wealthy and gives donation becomes subject matter of everyone’s interest even if he is ugly in his looks.

वह धनवान व्यक्ति जो दान देता है वह सबकी रूचि का विषय बन जाता है, भले ही वह कुरूप हो.

Aphorism 259

Those who are in need of money seek favour from a wealthy person knowing well that he is a miser.

जो जरूरतमंद लोग है वो एक धनवान आदमी से धन मांगते है जबकि उन्हें मालूम होता है की वह कंजूस है.

Aphorism 260

The wealthy person who puts his wealth to social good though not belonging to a good family commands more respect compared to those who belong to good families but who don’t do any social good.

एक धनि आदमी जो अच्छे कुल से नहीं है, लेकिन जो जनकल्याण के लिए अपनी संपत्ति को इस्तमाल करता है तो ज्यादा सम्मान पाता है. एक अच्छे कुल वाला भी यदि वह समाज के लिए कुछ नहीं करता तो उतना सम्मान नहीं पाता है.

Aphorism 261

A base person never fears that he may be offended or despised.

एक नीच आदमी को यह डर नहीं होता है की लोग उसका अपमान करेंगे या उससे घृणा करेंगे.

Aphorism 262

People who are pragmatic and clever don’t bother about their livelihood.

जो लोग व्यवहार कुशल और चतुर होते है उन्हें अपने गुजारे की चिंता नहीं होती.

Aphorism 263

He who controls his senses doesn’t have any doubts of losing balance when he is exposed to the material world.

जो व्यक्ति अपने इन्द्रियों को नियंत्रण में रखता है उसे दुनिया में जीते वक़्त फिसलने का डर नहीं रहता.

Aphorism 264

Those who know the secrets of life and have clarity about their duties don’t fear death.

जिन्हें जीवन के रहस्य पता है उन्ही अपने कर्त्तव्य के बारे में संदेह नहीं है और वो मौत से भी डरते नहीं है.

Aphorism 265

Good people want that wealth of others should also be put to noble use.

जो अच्छे लोग होते है वो दुसरो की संपत्ति देखकर द्वेष नहीं करते है अपितु वे चाहते है की दुसरो की संपत्ति का भी सद उपयोग हो.

Aphorism 266

One should not look at wealth of others with an eye of greed.

हमें दुसरो की संपत्ति को लोभ की दृष्टी से नहीं देखना चाहिए.

Aphorism 267

If one looks at  the wealth of others with an eye of greed, he may harm his social relations and may lead to his self-destruction.

यदि व्यक्ति दुसरो की संपत्ति को लोभ दृष्टी से देखता है तो उसके सामाजिक सम्बन्ध बिगड़ सकते है और वह खुद का विनाश कर सकता है.

Aphorism 268

One should not steal any wealth even as much as a blade of grass.

हमें दुसरो की घास के तिनके जितनी भी संपत्ति चुराना नहीं चाहिए.

Aphorism 269

One who steals wealth of others causes destruction of his own wealth.

जो दुसरो की संपत्ति चुराता है अपनी संपत्ति का विनाश करता है.

Aphorism 270

The noose of death is not as painful as that of poaching.

मौत का फन्दा उतना दर्द नहीं देता है जितना चोरी करने का.

Aphorism 271

One need not steal anything to maintain one’s life. One can maintain one’s life with bare minimum things.

एक आदमी को उसका जीवन बसर करने के लिए चोरी करने की कोई जरुरत नहीं. वह अपनी जिंदगी को न्यूनतम जरूरतों के आधार पर बसर करे.

Aphorism 272

There is no need of any remedy after death.

मरने के बाद कोइ दवा काम की नहीं.

Aphorism 273

The State should maintain it’s supremacy under normal conditions.

सामान्य परिस्थितियों में राज्य अपने वर्चस्व को बनाये रखे.

Aphorism 274

Even good qualities of base people are applied for ulterior purpose.

बुरे लोग अपने सद्गुणों को भी गलत काम में लगाते है.

Aphorism 275

A base person applies all his wisdom for doing base things so whatever wisdom is imparted to him becomes counter-productive.

एक नीच आदमी अपना दिमाग नीच काम में लगाता है. उसे यदि आप कोई विद्या देते भी है तो वह उससे उत्पात ही करेगा.

Aphorism 276

There is nothing more useful than food for life.

अन्न से ज्यादा आवश्यक जीने के लिए कुछ नहीं.

Aphorism 277

There is no enemy of the State like scarcity of food or un-satiated hunger of people.

अन्न की कमी या प्रजा की अतृप्त भूख राज्य का सबसे बड़ा शत्रु है.

Aphorism 278

One who doesn’t take any efforts, who is devoid of action and lazy is bound to die of starvation.

जो व्यक्ति कोई भी प्रयत्न नहीं करता है, कोई काम नहीं करता है और आलसी है उसका भूखा मरना तय है.

Aphorism 279

He who suffers from pangs of hunger doesn’t consider anything to be unfit for eating.

जिसे भूख लगी है उसके लिए अभक्ष्य कुछ भी नहीं होता.

Aphorism 280

He who puts his sense organs to unlimited use gets old earlier.

जो अपने इन्द्रियों का अति प्रयोग करता है वह जल्दी ही बुढा हो जाता है.

Aphorism 281

You should serve that master who considers no difference between his own life and the life of his people.

आप उसी स्वामी की सेवा करे जो खुद के और उसके लोगो के जीवन में कोई अंतर नहीं समझता है.

Aphorism 282

He whose master lacks sympathy thinks that he will get fire from a firefly.

जो स्वामी दुसरो के प्रति सहानुभूति नहीं रखता वह मानो जुगनू से अंगार पाना चाहता है.

Aphorism 283

One should serve that master who respects and discerns virtue.

उस स्वामी की सेवा करे जिसे गुणों की परख है और वह उनकी इज्जत करता है.

Aphorism 284

Intercourse leads a man to his senility.

सम्भोग की अति से आदमी वृध्त्व प्राप्त करता है.

Aphorism 285

Intercourse leads a woman to her senility.

सम्भोग की अति से औरत वृद्धत्व प्राप्त करती है.

Aphorism 286

There should not be a marital bond between a base person and a great person.

एक नीच और एक महान के बीच विवाह नहीं होना चाहिए.

Aphorism 287 and 288

There is no enemy greater than ego.

अहंकार से बढ़कर कोई शत्रु नहीं.

Aphorism 289

One should not offend one’s enemy at a meeting and convert it from a place where thoughts prevail to a place where people hurt one another.

व्यक्ति को अपने शत्रु का सभा में अपमान नहीं करना चाहिए. इससे विचार सभा का रूपांतरण मूढ़ सभा में हो जाता है.

Aphorism 290

It is a pleasure to know that the enemy is not doing well.

यह सुनने में अच्छा लगता है की शत्रु बेहाल है.

Aphorism 291

A deprived person has no intellect or his intellect fails to deliver.

एक निर्धन व्यक्ति को या तो दिमाग होता नहीं या उसका दिमाग काम नहीं करता.

Aphorism 292

If a deprived person tells something beneficial none listens.

एक निर्धन व्यक्ति यदि कोई काम की बात कहता है तो कोई नहीं सुनता.

Aphorism 293

A man who doesn’t have money to buy household necessities is offended by his wife.

जिस व्यक्ति के पास घर की जरूरते पूरा करने के लिए भी धन नहीं होता वह अपनी पत्नी से ही अपमानित होता है.

Aphorism 294

As the Mango tree is left by the bees when it’s flowering season is over, everyone deserts a poor man as relationship with him doesn’t offer any economic prospects.

जिस प्रकार आम के वृक्ष को भौरे फूलो का मौसम बीतने के बाद छोड़ देते है उसी तरह एक गरीब आदमी से सम्बन्ध रखकर धन नहीं मिल सिकता यह सोचकर लोग उससे संबंधो को तोड़ते है.

Aphorism 295

Wisdom is the wealth of the poor.

बुद्धिमत्ता ही निर्धन का धन है.

Aphorism 296

As wisdom is stored internally and it is secret there is no possibility of any theft.

बुद्धिमत्ता अंतर में होती है और वह गुप्त होती है इसलिए उसकी चोरी का कोई खतरा नहीं होता.

Aphorism 297

Wisdom widens the horizons of success.

बुद्धिमत्ता सफलता के क्षितिजों को बढाती है.

Aphorism 298

A material body dies, the glory lives forever.

स्थूल शारीर का अंत होता है, कीर्ति कायम रहती है.

Aphorism 299

One who strives for the good of others is a good person.

जो व्यक्ति दुसरो के भले के लिए प्रयत्न करता है वह एक अच्छा व्यक्ति है.

Aphorism 300

If one says that he has gained knowledge from scriptures, he should demonstrate calmness of his senses.

यदि कोई व्यक्ति कहता है की उसको शास्त्रों का ज्ञान है तो उसकी परीक्षा यह है की वह अपने इन्द्रियों पर संयम पा चूका है या नहीं.

Aphorism 301

The beacon of scriptures desists a person from doing anything wrong.

जिसे शास्त्रों का ज्ञान प्राप्त है वह कोई गलत काम नहीं करता.

Aphorism 302

The wisdom of a base man is useless and should not be acquired.

एक नीच आदमी की बुद्धिमत्ता व्यर्थ है और वह हासिल करने की किसीको कोई जरुरत नहीं.

Aphorism 303

One should not learn language of a base man.

हम एक नीच से उसकी भाषा ना सीखे.

Aphorism 304

One may learn commitment from a base person. Of course not the subject matter of commitment.

एक दुर्जन से उसके दुर्गुण नहीं उसकी दुर्गुणों के प्रति जो प्रतिबद्धता है वह सीखे.

Aphorism 305

One should not ignore the virtue of a virtuous man by becoming intolerant.

एक गुणवान के प्रति असहिष्णु होकर उसके गुणों का अनादर ना करे.

Aphorism 306

One should learn virtue even from one’s enemy.

आपको आपके शत्रु से भी गुण ग्रहण करने चाहिए.

Aphorism 307

One may extract nectar from poison if possible.

यदि संभव हो तो विष से भी अमृत निकाले.

Aphorism 308

A person gets respect only under favourable conditions.

व्यक्ति को अनुकूल परिस्थिति के चलते ही आदर प्राप्त होता है.

Aphorism 309

A man is respected only in the areas of his influence.

व्यक्ति को उसी क्षेत्र में आदर प्राप्त होता है जिसमे वह प्रतिभा रखता है.

Aphorism 310

Those who are decorated with wisdom, humility, knowledge of scriptures, righteousness and knowledge are called as Arya, gentle, good.

जो लोग बुद्धिमत्ता, विनयशीलता, शास्त्रों का बोध, सदाचार और ज्ञान से अलंकृत होते है वही आर्य, सभ्य या अच्छे कहलाते है.

Aphorism 311

One should never exceed the limit of good conduct.

हमें कभी भी सदाचार की सीमा नहीं छोड़ना चाहिए.

Aphorism 312

One who has become good by the dint of one’s lifelong penance can’t be glorified by any title or material means.

वह व्यक्ति जिसने जन्म भर के ताप से अच्छाई हासिल की है उसे इस दुनिया की कोई भी उपाधि या पारितोषिक से क्या नवाजा जा सकता है.

Aphorism 313

There is no gem as valuable as a woman who adores her home.

वह स्त्री रत्न है जो अपने घर के प्रति समर्पित है.

Aphorism 314

Men of virtue are rare in this world.

गुणवान लोग इस दुनिया में दुर्लभ है.

Aphorism 315

If a person indulges in condemned actions he loses his status of being a human-being.

जो व्यक्ति जघन्य कर्म करता है वह अपनी मनुष्यता को खो देता है.

Aphorism 316

A person who is devoid of any action and who observes no self restraint doesn’t have any right to study scriptures.

जो व्यक्ति अकर्मण्य है और जो संयम नहीं रखता उसे शास्त्रों के अध्ययन का कोई अधिकार नहीं है.

Aphorism 317

He who has no control over his sense organs can’t abide by scriptures or can’t be happy.

जिसे अपने इन्द्रियों पर संयम नहीं है वह शास्त्र के वचनों का पालन भी नहीं कर सकता और सुखी भी नहीं हो सकता.

Aphorism 318

A man who observes no self restraint is not given any respect by his wife.

वह आदमी जिसमे कोई संयम नहीं है अपनी पत्नी से भी सम्मान नहीं पाता है.

Aphorism 319

Only trees capable of flowering are offered water and not the dried trees. Those who wish to grant favours prefers them who are good.

उन्ही झाडो को पानी से सींचा जाता है जो पुष्प और फल दे सकते है, उन झाडो को नहीं जो सूख गए है. उसी प्रकार जब किसीमे भला करने की इच्छा जागती है तो वह जो अच्छा है उसी का भला करते है.

Aphorism 320

There is no possibility of getting any food by boiling sand. Similarly happiness is not created by foolish means.

बालू को उबालने से अन्न नहीं बनता उसी तरह सुख का निर्माण मुर्खता पूर्ण तरीके से संभव नहीं है.

Aphorism 321

People who have acquired great virtues should not be ridiculed.

हमें गुणवान व्यक्ति की मजाक नहीं उड़ाना चाहिए.

Aphorism 322

One should remember that the cause effect relationship always prevails. So there can’t be anything good from something bad.

शुभ कर्मो से ही शुभ का निर्माण संभव है.

Aphorism 323

The purpose of the work is more decisive than the constellation when the work is undertaken.

काम करते समय नक्षत्र कैसा है इससे फरक नहीं पड़ता, हा इससे पड़ता है की काम का उद्दिष्ट क्या है.

Aphorism 324

If some work is to be done urgently, there is no need to assess the constellation.

यदि काम को जल्दी करना है तो नक्षत्र देखने की जरुरत नहीं.

Aphorism 325

If someone becomes known to you well, his defects won’t remain hidden.

यदि आप किसीको जानते है तो उसकी खामी आपसे छुपी नहीं रहती.

Aphorism 326

A sinner judges others with his own standards and concludes that others are just like him.

एक पापी दुसरो को अपनी ही नजरो से देखता है और उसे सब अपने जैसे ही दिखते है.

Aphorism 327

It is very difficult to change one’s disposition.

किसी का स्वभाव बदलना बहोत मुश्किल है.

Aphorism 328

The penalty should be commensurate with the offense.

दंड अपराध के अनुरूप होना चाहिए.

Aphorism 329

The answer should be commensurate with the query.

उत्तर प्रश्न के अनुरूप होना चाहिए.

Aphorism 330

One should decorate one’s exterior within one’s economic means.

व्यक्ति ने खुद को बाहर से उतना ही सजाना चाहिए जितना उसकी आर्थिक परिस्थिति में संभव हो.

Aphorism 331

One’s conduct should be compatible with one’s family.

व्यक्ति का बर्ताव उसके कुल के अनुरूप होना चाहिए.

Aphorism 332

One’s efforts should match the work that he has to do.

व्यक्ति के प्रयत्न उसके काम के अनुरूप होने चाहिए.

Aphorism 333

Donation should be made taking into account the eligibility of the donee.

दान पात्रता देखकर ही देना चाहिए.

Aphorism 334

One’s robes should be compatible with one’s state.

व्यक्ति के कपडे उसकी परिस्थिति के अनुरूप ही होने चाहिए.

Aphorism 335

A servant should always favour his Master by his actions.

सेवक को स्वामी का हरदम हित करना चाहिए.

Aphorism 336

A wife should always favour her husband.

पत्नी को पति का हित करना चाहिए.

Aphorism 337

A disciple should always execute his preceptor’s command.

शिष्य को गुरु की आज्ञा का पालन करना चाहिए.

Aphorism 338

A son should always follow his father’s wishes.

पुत्र को पिता की इच्छा को पूर्ण करना चाहिए.

Aphorism 339

If someone is doing unreasonable favor to you that should arise your suspicion.

यदि कोई आपको जरुरत से ज्यादा उदारता दिखा रहा है तो आप को शक करना चाहिए.

Aphorism 340

If your master gets angry you should please him.

यदि स्वामी क्रोधित होता है तो उसे शांत करे.

Aphorism 341

As a child that is beaten by his mother goes back to his mother and asks anything he wants from her only, so should one go back to one’s people even if they seem to be harsh in their behaviour.

एक बच्चा माँ से पिटे जाने के बाद माँ के ही आंचल में जाकर अपनी बात रोता है उसी तरह आपके अपने लोग यदि आपसे सख्ती से पेश आते है फिर भी आपको उनके पास जा कर ही अपनी बात कहनी चाहिए.

Aphorism 342

The elderly people who love you won’t harm you by their anger.

जो बड़े लोग आपसे प्रेम करते है वो उनके क्रोध से आपका बुरा नहीं करेंगे.

Aphorism 343

A foolish person can’t see his own mistake and always finds faults with others.

मुर्ख को अपनी कोई गलती नहीं दिखती सब खोट दुसरो में ही दिखती है.

Aphorism 344

Those who are cunning serve others with some ulterior motive.

जो धूर्त होते है वो दुसरो का भला किसी मतलब से ही करते है.

Aphorism 345

These people have their own interest and their service is just a formality.

उनका निहित स्वार्थ होता है और भला करना तो एक दिखावा होता है.

Aphorism 346

If a person known to you gives unjust favours that should arise your suspicion.

यदि आपका परिचित आदमी आपके ऊपर कुछ ज्यादा ही अनुग्रह करे तो आपको संशय होना चाहिए.

Aphorism 347

As a cow with some problem is better than thousand dogs, a servant without any formality is better than thousands who are set to decieve.

एक गाय जिसमे कुछ खामी है हजार कुत्तो से बेहतर है. उसी तरह एक सेवक जो दिखावा नहीं करता हज्जारो दिखावा करने वालो से बेहतर है.

Aphorism 348

It is better to be contented with a small pigeon that you have today than a big pea-cock that you will have in future.

आज आपके पास में जो एक छोटा कबूत्तर है उससे आपको ज्यादा संतोष होना चाहिए बजाय उस मोर के जो आपके पास भविष्य में होगा.

Aphorism 349

If any work is beset with immorality it corrupts the duty and defeats the purpose of the work.

यदि कोई काम अनैतिक है तो उससे कर्त्तव्य दूषित होता है और काम का प्रयोजन भी विफल होता है.

Aphorism 350

He who is devoid of anger may conquer the whole world.

जिसमे क्रोध नहीं है वह पूरी दुनिया को जीत सकता है.

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s